Pages

Monday, February 7, 2011

कौन कहता है कि भारत गरीब देश है?

हम अक्सर रोते रहते है कि गरीबी कितनी ज्यादा है और महंगाई भी बढती जा रही है लेकिन स्विस बैंक के खुलासे के बाद आपकी आँखें चौंधिया जाएंगी. स्विस बैंक के डाइरेक्टर ने यह कहा है कि भारत का लगभग २८० लाख करोड़ रुपये (२८०००००००००००००) उनके स्विस बैंक में जमा है.

ये रकम इतनी है कि भारत का आने वाले 30 सालों का बजट बिना टैक्स के बनाया जा सकता है. या यूँ कहें कि 60 करोड़ रोजगार के अवसर दिए जा सकते है. या यूँ भी कह सकते है कि भारत के किसी भी गाँव से दिल्ली तक 4 लेन रोड बनाया जा सकता है. ऐसा भी कह सकते है कि 500 से ज्यादा सामाजिक प्रोजेक्ट पूर्ण किये जा सकते है. ये भी कहा जा सकता है कि ये रकम भारत आने के बाद पेट्रोल, दाल, सब्जियां या कोई भी चीज जिसकी महंगाई का हम रोना रो रहे है, की कीमतें कौड़ियों के भाव हो जाएगी. ये रकम इतनी ज्यादा है कि अगर हर भारतीय को 2000 रुपये हर महीने भी दिए जाये तो 60 साल तक ख़त्म ना हो.

यानी भारत को किसी वर्ल्ड बैंक से लोन लेने कि कोई जरुरत नहीं है. जरा सोचिये हमारे भ्रष्ट राजनेताओं और नोकरशाहों ने कैसे देश को लूटा है और ये लूट का सिलसिला अभी तक जारी है. अंग्रेजो ने हमारे भारत पर करीब 200 सालो तक राज करके करीब 1 लाख करोड़ रुपये लूटा मगर आजादी के केवल 64 सालों में भ्रष्टाचार ने २८०  लाख करोड़ लूटा है.

एक तरफ 200 साल में 1 लाख करोड़ है और दूसरी तरफ केवल 64 सालों में 280 लाख करोड़ है. यानि हर साल लगभग 4.37 लाख करोड़, या हर महीने करीब 36 हजार करोड़ भारतीय मुद्रा स्विस बैंक में इन भ्रष्ट लोगों द्वारा जमा करवाई गई है. भारत को किसी वर्ल्ड बैंक के लोन की कोई दरकार नहीं है. सोचो की कितना पैसा हमारे भ्रष्ट राजनेताओं और उच्च अधिकारीयों ने ब्लाक करके रखा हुआ है.

अंत में कहना चाहूँगा कि आप लोग जोक्स फॉरवर्ड करते ही हो. इसे भी इतना फॉरवर्ड करें कि पूरा भारत इसे पढ़े और ये एक आन्दोलन बन जाये. आइये इन खून चूसने वाले नमकहरामों को जड़ से उखाड़ फेंके.

No comments:

Post a Comment