Aug 23, 2012

स्वयंवर - अध्याय नौ

बाह्लीक भीष्म के इस निर्णय पर उनसे क्रोधित हैं किन्तु भीष्म उनसे मिलते हैं और उन्हें बताते हैं कि उन्होंने ऐसा निर्णय क्यों लिया? सत्य जानकार बाह्लीक को समझ में आता है कि हस्तिनापुर पर कैसे संकट के बदल छाए है जिससे वे अत्यंत चिंतित हो जाते हैं. भीष्म और बाह्लीक परिस्थिति के अनुसार भविष्य के लिए योजना बनाते हैं जिसपर हस्तिनापुर का भविष्य निर्भर करने वाला है. ऐसा क्या है जो भीष्म बाह्लीक से कहते हैं? ये अगले अध्याय में. 

“काशी इसी माह स्वयंवर का आयोजन कर रहा है. वहां अम्बा अपनी इच्छा से वर का चुनाव करेगी. अगर स्वयंवर के लिए कोई प्रतियोगिता रखी गयी तो हस्तिनापुर का प्रतिनिधित्व मैं करूँगा. मेरा मन कहता है अम्बा विचित्रवीर्य का हीं चुनाव करेगी. अन्य कहीं और विचित्रवीर्य की बात चलाने पर विलम्ब की सम्भावना है और मैं चाहता हूँ कि उसका विवाह जल्दी से जल्दी हो जाए.” 

... इसी अध्याय से ...